Barish shayari in hindi 2023 | बारिश शायरी | Barish shayari 2023

Barish shayari in hindi 2023 : दोस्तों बारिश का मौसम हो या बारिश हो रही हो और हमें अपने प्यार की याद ना आये ऐसा हो नहीं सकता इसी बीच हम गूगल पर तरह तरह की शायरी सर्च करते रहते हैं ! दोस्तों हम आपके लिए लेकर आये हैं बारिश के मौसम की शायरी जिसे आप अपने पार्टनर के साथ शेयर कर सकते है ! और साथ ही आप हमारी शायरी को facebook , instagram , whatsapp पर शेयर कर सकते हैं !

 

Barish shayari in hindi 2023 

Barish shayari in hindi 2023

गुम सा हो गया हूँ मैं इस बारिश की बूंद में,

क्योंकि ये सावन भी अब मुझे तुम सा लगने लगा है।

Gum sa ho gaya hu main es barish ki boondon me

Kyoki ye savan bhi ab mujhe tum sa lagne laga hai

 

बारिश की बुंदे भी क्या वफा निभाती हैं,

दूर आसमा से निकल कर,जमी में मिल जाती हैं।

Barish ki beeden bhi kya baafa nibhati hain

Door aasaman se nikalkar jami me mil jati hain

 

बारिश का यह मौसम कुछ याद दिलाता है,

किसी के साथ होने का एहसास दिलाता है,

फिजा भी सर्द है यादें भी ताज़ा है,

यह मौसम किसी का प्यार दिल में जगाता है। 

Barish ka yah mousam kuch yaad dilate hai

Kesi ke sath hone ka ahsaas dilate hai

Fiza bhi sard hai yaden bhi taza hain

Yah mousam kesi ka pyaar dil me jagata hai

 

एक तो ये रात, उफ़ ये बरसात,

इक तो साथ नही तेरा, उफ़ ये दर्द बेहिसाब,

कितनी अजीब सी है बात,

मेरे ही बस में नही मेरे ये हालात। 

Ek to ye raat uf ye barsaat

Ek to sath nahi tera uf ye dard behisaab

Kitani ajeeb si hai ye baat

Mere hi bas main nahi mere halat

 

बारिश और मोहब्बत दोनों ही यादगार होते है,

बारिश में जिस्म भीगता हैऔर मोहब्बत में आंखे।

Barish or mohbbat dono hi yadagar hote hain

Barish main jism bhigata hai , or mohbbat me aankhen

 

ये इश्क़ का मौसम अजीब है जनाब,

इस बारिश में कई रिश्ते धुल जाते है,

बेगानों से करते है मोहब्बत कुछ लोग,

और अपनों के ही आंसू भूल जाते है।  

Ye ishq ka mousam ajeeb hai janaab

Es barish me kai riste dhul jate hain

Beganon se karte hai mohbbat kuch log

Or apnon ke hi aanshu bhul jate hain

 

 हो रही है बारिश, पूरा शहर ये वीरान है,

एक हम ही तो उदास नहीं, सारा शहर परेशान है। 

Ho rahi hai barish , poora shahar ye veeran hai

Ek ham hi to udaas nahi , sara shahar pareshan hai

 

कभी जी भर के बरसना 

कभी बूंद बूंद के लिए तरसाना,

ए-बारिश तेरी आदतें मेरे यार जैसी हैं। 

Kabhi ji bhar ke barasana

 kabhi boond boond ke liye tarasana

e barish teri aadaten mere yaar jaise hain

 

खुश नसीब होते हैं बादल,

जो दूर रहकर भी ज़मीन पर बरसते हैं,

और एक बदनसीब हम हैं,

जो एक ही दुनिया में रहकर भी मिलने को तरसते हैं !

Khush naseeb hote hain badal

Jo door rahkar bhi jameen par barasate hain

Or ek badanaseeb ham hain

Jo ek hi dunia me rahkar milneko tarsate hain

 

ये भी पड़ें – 

 

Romaintic barish shayari

Barish shayari in hindi 2023

 

मत पूछो कितनी मोहब्बत है मुझे उनसे,

बारिश की बूंद भी अगर उन्हें छू जाती है,

तो दिल में आग लग जाती है।

Mat puchho kitani mohbbat hai unse

Barish ki beend bhi agar unhe choo jati hai

To dil me aag lag jaati hai

 

तेरे इश्क़ की बारिश मे कुछ इस कदर भींग जाऊँ,

हो के मस्त मौला मैं इस दुनिया को भूल जाऊँ।

Tere ishq ki barish me kuch es kadar bheeg jau

Hoke mast moula me es dunia ko bhul jau

 

मौसम हैं बारिश का और याद तुम्हारी आती हैं,

बारिश के हर कतरे से सिर्फ तुम्हारी आवाज़ आती हैं। 

Mousam hai barish ka or yaad tumhari aati hai

Barish ke har katare se sirf tumhari avaj aati hai

 

ए बारिश तू इतना ना बरस की वो आ ना सके,

और उसके आने के बाद इतना बरस की वो जा ना सके। 

E – barish tu etana na baras ki vo aa na sake

Or uske aane ke baad itna baras ki vo ja na sake

 

तेरे प्रेम की बारिश हो,मैं जलमगन हो जाऊं,

तुम घटा बन चली आओ,मैं बादल बन जाऊं।

Tere prem ki barish ho , me jalmagan ho jau

Tum ghata ban chali aao , me badal ban jau

 

कुछ नशा तेरी बात का है,

कुछ नशा धीमी बरसात का है,

हमे तुम यूँही पागल मत समझो

यह दिल पर असर पहली मुलाकात का है। 

Kuch nasha teri baat ka hai

Kuch nasha dhimi barsaat ka hai

Hame tum yuhi pagal mat samjho

Yah dil par asar pahli mulakaat ka hai

 

बिन बादल बरसात नहीं होती,

सूरज डूबे बिना रात नहीं होती,

अब कुछ ऐसे हालत हैं हमारे की,

आपको देखे बगैर दिन की शुरुआत नहीं होती। 

Bin baadal barsaat nahi hoti

Suraj doobe bina raat nahi hoti

Ab kuch aise halat hai hamare ki

Aapko dekhe bagair din ki shuruaat nahi hoti

 

दिल की बातें कौन जाने,

मेरे हालात को कौन जाने,

बस बारिश का मौसम है,

मेरी प्यास का एहसास कौन जाने। 

Dil ki baten kon jane

Mere halat ko koun jane

Bas barish ka mousam hai

Meri pyaas ka ehsaas kon jane

 

बारिश में भीगे हम बारिश में भीगे तुम 

इस बारिश में भीगे लबो को मिल जाने दो,

आज रहे ना जाये कोई ख्वाइश अधूरी,

आज हर चाहत पूरी हो जाने दो। 

Barish me bheege ham barish me bheege tum

Es barish me bheege labon ko mil jane do

Aaj rah na jaye koi kvaais adhuri

Aaj har chahat puri ho jane do

 

मिलकर भी उनसे मुलाकात रह गई,

बादल घर आए थे मगर बरसात रह गई।

पूछते थे ना कितना प्यार है तुम्हे हमसे

लो अब गिन लो बारिश की ये बूँदें। 

Milkar bhi unse mulakaat rah gayi

Badal ghar aaye the magar barsaat rah gayi

Puchate the na kitana pyyar hai tumhe hamse

Lo ab gin lo barish ki ye boonden

 

Sad barish shayari

Barish shayari in hindi 2023

पहले बारिश में हम तुम मिलते थे, 

अब तुम्हारी याद आती है तो 

आँसूओ कि बारिश होती है।

Pahle barish me ham tum milte the

Ab tumhari yaad aati hai to

Aanshuon ki barsaat hoti hai

 

आशिक तो आँखों की बात समझ लेते हैं,

सपनो में मिल जाये तो मुलाकात समझलेते हैं,

 रोता तो आसमान भी है अपने बिछड़े प्यार के लिए,

 पर लोग उसे बरसात समझ लेते हैं।

Aashik to aankhon ki baaat samajh lete hain

Sapnon me mil jaye to mulakat samajh lete hain

Rota to aasamaan bhi hai apne bichade pyaar ke liye

Par log use barsaat samajh lete hai

 

ए बारिश कहीं और जाके बरसा कर,

मेरा दिल बहुत कमजोर है,

बात बात पर रोया करता है। 

E – barish kahi or jakar barsaakar

Mera dil bahot kamjor hai

Baat baat pat roya karta hai

 

कितना अधूरा लगता है तब,

जब बादल हो पर बारिश ना हो,

जब जिंदगी हो पर प्यार ना हो,

जब आँखे हो पर ख्वाब ना हो,

और जब कोई अपना हो पर साथ ना हो। 

Kitana adhura lagta hai tab

Jab badal ho par barish na ho

Jab jindagi ho par pyaar na ho

Jab aankhen ho par khvaab na ho

Or jab koi apna ho par sath na ho

 

बारिश की बौछार जब चहरें पर पड़ती हैं,

वो बचपन की याद ताजा हो जाती हैं,

वो बचपन मे कागज की नाव बना कर,

बारिश की पानी में मस्ती याद आती है। 

Barish ki bouchhar jab chehare par padti hai

Vo bachapan ki yaad taza ho jati hai

Vo bachapan me kagaz ki naav banakar

Barish ke pani me masti yaad aati hai

 

इस बरसात में हम भीग जायेंगे,

दिल में तमन्ना के फूल खिल जायेंगे,

अगर दिल करे मिलने को तो याद करना

बरसात बनकर बरस जायेंगे। 

Es barshat me ham bheeg jayenge

Dil me tamnna ke phool khil jayenge

Agar kare milne ka to yaad karna

Barsaat banker baras jayenge

 

कितनी जल्दी जिंदगी गुज़र जाती है,

प्यास भुझ्ती नहीं बरसात चली जाती है,

तेरी याद कुछ इस तरह आती है,

नींद आती नहीं मगर रात गुज़र जाती है। 

Kitani jaldi jindagi guzar jati hai

Pyas bhujati nahi barasaat chali jati hai

Teri yaad kuch es tarah aati hai

Neend aati nahi magar raat guzar jati hai

Barish shayari 2 line

Barish shayari in hindi 2023

बारिशें कुछ इस तरह से होती रहीं मुझ पे,

ख्वाहिशें सूखती रहीं और पलकें रोतीं रहीं

Barish kuch es kadar hoti rahi mujh pe

Khvaishen shukhati rahi or palken roti rahi

 

मुझे ऐसा ही जिंदगी का एक पल चाहिए,

प्यार से भरी बारिश और संग तू चाहिए। 

Mujhe aisa hi jindagi ka ek pal chahiye

Pyaar se bhari barish or sang tu chahiye

 

कोई रंग नहीं होता बारिश के पानी में

फिर भी फ़िज़ा को रंगीन बना देता है।

Koi rang nahi hota barish ke pani me

Fir bhi fiza ko rangeen bana deta hai

 

बारिश की बूँदों में झलकती है तस्वीर उनकी

 और हम उनसे मिलने की चाहत में भीग जाते है।

Barish ki boondon me jhalakti hai tasveer unki

Or ham unse milne ki chahat me bheeg jaate hain

 

तुझसे अब बात तक करने को तरस गए हैं हम, 

बिन मौसम हुई बारिश की तरह बरस गए हैं हम। 

Tujhse ab baat tak karne ko taras gaye ham

Bin mousam huyi barush ki tarah baras gaye ham

 

खुद भी रोता है मुझे भी रुला के जाता है,

ये बारिश का मौसम उसकी याद दिला के जाता है। 

Khud bhi rota hai mujhe bhi rula ke jata hai

Ye barish ka mousam usaki yaad dila ke jata hai

 

मजबूरियाँ ओढ़ के निकलता हूँ घर से आजकल,

वरना शौक तो आज भी है बारिश में भीगने का! 

Majbooriyan od ke niklta hu ghar se aajkal

Varna shouk to aaj bhi barish me bheegane ka

 

पता था मुझे बारिश होंगी,

बादलो को दुख जो सुनाया था मैंने। 

Pata tha mujhe barish hogi

Badalon ko dukh jo sunaya tha maine

 

वाह मौसम आज तेरी अदा पर दिल खुश हो गया,

याद मुझको वो आई और बरस तू गया।

Waah mousam aaj teri ada par dil khush ho gaya

Yaad mujhko vo aayi or baras tu gaya

 

हुई बारिश ज़रा सी सबको अपना काम याद आया,

किसी को प्यार अपना,किसी को याद जाम आया। 

Huyi barish jara si sabko apna kaam yaad aaya

Kesi ko pyaar apna , kesi ko yaad jam aaya

 

ब्यूटीफुल बारिश शायरी 

Barish shayari in hindi 2023

कहीं फिसल ना जाओ ज़रा संभल के रहना, 

मौसम बारिश का भी है और मोहब्बत का भी।

Kahi fisal na jao jara samhal ke rahna

Mousam barish ka bhi hai or mohbbat ka bhi

 

रंग भरे मौसम में तू मेरे साथ हो,

चलते जाएं राहों में हम और संग बरसात हो!

Rang bhare mousam me tu mere sath ho

Chalet jaye rahon me ham or sang barsaat ho

 

ए बादल इतना बरस की नफ़रतें धुल जायें,

इंसानियत तरस गयी है प्यार पाने के लिये। 

E – baadal etna baras ki nafaraten dhul jaye

Insaaniyat taras gayi hai pyaar pane ke liye

 

वो मेरे रु-बा-रु आया भी तो बरसात के मौसम में,

मेरे आँसू बह रहे थे और वो बरसात समझ बैठा। 

Vo mere rubaru aaya bhi to barsaat ke mousam me

Mere aanshu bah rahe the or vo barsaat samjh baitha

 

सुबह का मौसम बारिश का साथ है,

हवा ठंडी जिससे ताजगी का एहसास है,

बना के रखिए चाय और पकौड़े,

बस हम आपके घर के थोड़े से पास हैं।

Subah ka mousam barish ka sath hai

Hava thandi jisase tazgi ka ahsaas hai

Bana kar rakhiye chay or pakoude

Bas ham aapke ghar ke thode se paas hain

 

इस बारिश के मौसम में अजीब सी कशिश है,

ना चाहते हुए भी कोई शिदत से याद आता है! 

Es barish ke mousam me ajeeb si kashis hai

Na chahate huye bhi koi siddat se yaad aata hai

 

ऐ बादल अगर बरसना है तो जमके बरस,

इससे ज्यादा तो मेरी आंखे रोज़ बरसा देती है। 

E baadal agar barasana hai to jamke baras

Isase jyada to meri aankhen roj barsa deti hain

Barish shayari | बारिश शायरी 

Barish shayari in hindi 2023

अब बारिश ही जाने की उसकी बूंद

ख़ुशी के आंसू होते है या गम के।

Ab barish hi jane ki uske aanshu

Khushi ke aanshu hote hain ya gam ke

 

मेरे ख्यालों में वही सपनो में वही,

लेकिन उनकी यादों में हम थे ही नहीं,

हम जागते रहे दुनियां सोती रही,

एक बारिश ही थी जो हमारे साथ रोती रही।

Mere khayalo me vahi , mere sapno me vahi

Lekin unki yadon me ham the ya nahi

Ham jagte rahe dunia soti rahi

Ek barish hi thi jo hamare sath roti rahi

 

बारिश तो होती है, मगर वो बचपन वाली बारिश 

अब लौट कर नहीं आती है। 

Barish to hoti hai , magar vo bachapan vali barish

Ab lout kar nahi aati  

 

आज भीगी हैं पलकें किसी की याद में, 

आसमां भी सिमट गया अपने आप में,

 ऐसे गिरी है आंसू की बूंदे ज़मीन पर। 

Aaj bheegi hain palken kesi ki yaad me

Aasaman bhi simat gaya apne aap me

Aise giri hai aanshu ki boonde jameen par

 

रिमझिम बारिश शायरी | Rimjhim barish shayari

मोहब्बत तो वो बारिश है जिससे,

छूने की चाहत मैं हथेलियां तो गीली,हो जाती है

पर हाथ खा ली ही रह जाते है! 

Mohbbat to vo barish hai jisase

Chune ki chahat me hatheliyan to gili ho jati hai

Par hath khali hi rah jate hain

 

तुमको बारिश पसंद है मुझे बारिश में तुम,

तुमको हँसना पसंद है मुझे हस्ती हुए तुम,

तुमको बोलना पसंद है मुझे बोलते हुए तुम,

तुमको सब कुछ पसंद है और मुझे बस तुम। 

Tumko barish pasand hai , mujhe barish me tum

Tumko hasana pasand hai , mujhe hasti huye tum

Tumko bolna pasand hai , mujhe bolte huye tum

Tumko sab kuch pasand hai , or mujhe pasand ho tom

 

आज मौसम भी लगता है बेकरार हो गया,

खत्म प्रेमियों का इंतजार हो गया,

बारिश की बुँदे कुछ गिरी इस तरह से

शायद आसमान को भी जमीन से प्यार हो गया। 

Aaj mousam bhi lagta hai bekarar ho gaya

Khatm premiyon ka intzaar ho gaya

Barish ki boonden kuch giri es tarah se

Shayad aasaman ko bhi jameen se pyaar ho gaya

 

पहली बारिश शायरी | pahali barish shayari

Barish shayari in hindi 2023

जब भी कड़कती हैं बिजली

मेरा रोम रोम याद करता हैंतुझे,

कैसे लिपट जाती थी तू मुझसे

जब बादल फटता था जोरो से।

Jab bhi kadakti hai bijali

Mera rom rom yaad karta hai tujhe

Kaise lipat jati thi tu mujhase

Jab badal phatata tha joron se

 

बारिश का आना भी जरूरी था,

धरती की प्यास बुझाने के लिए,

फूलों का खिलना भी जरूरी था,

तुमसे दिल लगाने के लिए!

Barish ka aana bhi jaruri tha

Dharti ki pyaas bhujane ke liye

Phoolon ka khilna bhi jaruri tha

Tumse dil lagane ke liye

 

Most Read – 

हेल्लो दोस्तो मेरा नाम है - Neeraj Guru और मैं neerajguru.com का Author हूँ | यहाँ मैं Technology से जुड़ी जानकारी हिन्दी मैं शेयर करता हूँ इसलिए आप neerajguru.com पर एक बार जाकर जरुर देखें - धन्यबाद

Sharing Is Caring:

Leave a Comment